जब कोई ज्‍योतिषी आपसे कहता है कि आपका भाग्‍योदय होने वाला है, या कहे कि आपका अच्‍छा समय चल रहा है या खराब समय चल रहा है या कहे कि फलां दौर आपका सबसे अनुकूल समय था |


तो उस समय ज्‍योतिषी आपकी कुण्‍डली के कारक और मारक ग्रह की दशा को देख रहा होता है।


क्यूंकि हमारे जीवन में जो भी होता है  वह  कारक और मारक ग्रहो की दशा और महादशा के अनुसार ही होता है।


भारतीय ज्योतिष के अनुसार आपकी कुंडली में जो विवाह योग, राजयोग, धनयोग आदि योग बनते है वह  भी आपके कारक योग के गृह के अनुसार बनते है और ये योग कारक ग्रहो की महादशा या अन्तर्दशा के समय  पूर्ण फल देते है |


कारक योग वह  योग होते है, जिनकी दशा या अन्तर्दशा चलने पर आपको कम या अधिक पर लाभ जरूर होता है |


ठीक वैसे ही मारक योग इनके विपरीत होते है क्यूंकि मारकेश अर्थात-मरणतुल्य कष्ट या मृत्यु देने वाला वह ग्रह जिसे आपकी जन्मकुंडली में ‘मारक’ होने का अधिकार प्राप्त हैं।जिनकी महादशा या अन्तर्दशा के समय आपको अनेक प्रकार की बीमारी, मानसिक परेशानी, वाहन दुर्घटना, दिल का दौरा, नई बीमारी का जन्म लेना, व्यापार में हानि, मित्रों और संबंध‌ियों से धोखा तथा अपयश जैसी परेशानियां आती हैं।


कहते है की जीवन के जिस समय कारक गृह की दशा चलती है तो वह आपके लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है।और मारक ग्रहो की दशा चलने पर आपको अनेक परेशानियाँ आती है |


शादी कराने वाले कारक ग्रह अलग होते हैं और नौकरी दिलाने वाले अलग, इसी प्रकार जीवन की हर घटना में कुछ कारक ग्रहों की ही भूमिका होती है।


हमारी कुंडली में कारक गृह ही होते है जो घटनाओ और स्तिथियो का निर्धारण करके और उनसे भविष्यफल करने में सहायक होते है । कारक विचार ही भविष्यफल की सबसे महत्‍वपूर्ण कड़ी है।

जैसे की अगर आपका कारक गृह मंगल है और उसकी अन्तर्दशा चल रही है तो आपको सम्पति प्राप्त हो सकती है , आपका प्रमोशन होने वाला है , विदेशी व्यापार से लाभ हो सकता है और अनपेक्छित लाभ की सम्भावनाये है |


Foresight ने P 2  मॉडल बनाया है जिसमे की आपको ये बताते है कि आपके कारक और मारक गृह उनका आप पर क्या प्रभाव पड़ेगा और अपने मारक ग्रहो को शांत आपको क्या उपाय करने चाहिए ।
अगर आप भी जानना चाहते है की आपकी कुंडली में विवाह योग, राजयोग, धनयोग और आप अनेक प्रकार की बीमारी, मानसिक परेशानी, व्यापार में हानि, मित्रों और संबंध‌ियों से धोखा से परेशान है तो देखिये की आपकी कुंडली में आपके कारक और मारक गृह कौन से है और उनका आपके जीवन पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है और अपने मारक ग्रहो को शांत करने के लिए आपको क्या उपाय करना चाहिए | 

 

अधिक जानकारी  के लिए P 2  मॉडल बनाये | 

Comments
Comments
Naveen Sarwan Sthai rojgar ke upay batay
Reply 2018-06-23 09:35:06.0
Kamla Foresight का यह post उत्तम है |
Reply 2018-04-16 18:01:51.0

Latest Post