जीवन में भौतिक सुख-सुविधाएं, धन, संपत्ति, वाहन आदि कौन नहीं चाहता। कई लोगों को ये सब पैतृक रूप से प्राप्त हो जाता है, तो कई लोग इन्हें पाने के लिए जीवनभर कठिन परिश्रम करते रहते हैं। इसके बावजूद सफलता कुछ ही लोगों के हाथ लग पाती है।

ये सब होता है आपकी कुंडली में बने योग के कारण , योग तब बनते है जब दो या दो से अधिक ग्रह जब किसी राशि में साथ-साथ या किसी निश्चित अंतर पर रहते हैं और एक दूसरे को प्रभावित करते हैं।

ज्यो‌त‌िषशास्‍त्र में हजारों योग बताए गए हैं। इनमें कुछ अशुभ फल देने वाले होते हैं तो कुछ शुभ।

कुंडली में ऐसे अनेक योग होते हैं जो व्यक्ति को जमीन से उठाकर शीर्ष तक पहुंचा सकते हैं और कई ऐसे योग भी होते हैं जो व्यक्ति को शीर्ष से फर्श पर लाकर पटक देते हैं। निश्चित रूप से कर्म की अपनी महत्ता है लेकिन भाग्य का साथ होना भी आवश्यक है।

लेकिन आज यहां हम आपको ऐसे योगों के बारे में बता रहे है ज‌िनके कुंडली में होने का मतलब है व्यक्त‌ि धनवान होने के साथ ही महान व्यक्त‌ित्व का भी स्वामी होगा।

आपकी जन्मकुंडली में धन सुख या धनी बनने के लिए राजयोग, गजकेसरी योग, चन्द्र-मंगल योग, पञ्च महापुरुष योग आदि होना चाहिए।

लेकिन आज हम बात क्र रहे है राज योग की राज योग का अर्थ राजा बनने से नहीं है, बल्कि इसके द्वारा मान-सम्मान, यश, पद, प्रतिष्ठा, अर्थ लाभ, तरक्की और जीवन के लिए जरूरी सुख-सुविधाएं आसानी से उपलब्ध होने का विश्लेषण किया जाता है।

अर्थात ज्योतिष के अनुसार राजयोग का अर्थ है कुंडली में एक ऐसा योग जो राजा के सामान सुख प्रदान करने वाला हो.

जिस व्यक्ति की कुंडली में राजयोग होता है वह व्यक्ति हर प्रकार की सुख-सुविधा और लाभ प्राप्त करता हैं।

वह उच्च स्तरीय राजनेता, मंत्री, किसी राजनीतिक दल के प्रमुखया कला और व्यवसाय में खूब मान-सम्मान प्राप्त करते हैं।

ये योग तब बनता है जब जन्म कुंडली के नौवें या दसवें घर में अच्छे ग्रह मौजूद रहते हैं.

या अगर कुंडली में सप्तम भाव का स्वामी ग्रह अगर पंचम या नवम भाव में बेठा हो, या फिर पंचमेश या नवमेश सप्तम भाव में बैठे हो, या युति या दृष्टि सम्बन्ध बना रहे तो राजयोग का निर्माण होता है .

कुंडली में राजयोग आंकलन करने के लिए लग्न को आधार बनाया जाता है। जब कुंडली की लग्न में सही ग्रह मौजूद होते हैं तब राजयोग का निर्माण होता है।

इसीलिए Foresightindia ने एक Y1 मॉडल प्रस्तुत किया है.जिसमे आप जान सकते है की आपकी कुंडली में क्या योग है.विवाह योग संतान , माता पिता योग,धन योग, विदेश योग और राज योग है या नहीं और अगर ये योग है तो कब तक है और इन योगो से आपके जीवन पर क्या प्रभाव रहेगा. 

Comments
Comments
Ajay Kumar Mera kark lagan , dusre Ghar mainshukar aurtisre main Surya manal rahu, chourhe mainbudh, 5th guru 6th Shani chandrma date of birth 10/10/1959, ashtmi ki raat nnaumi utraaaharha
Reply 2018-04-19 16:32:57.0
Subham Mishra Subham Mishra 21-03-1994 23:00 Amethi sultanpur u.p. Job
Reply 2018-04-19 14:30:14.0

Latest Post